Friday, October 19, 2012

ये कैसी है तेरी माया, तुने कैसे बनायीं काया.........

ये कैसी है तेरी माया,
तुने कैसे बनायीं काया.
सबसे भिन्न सबसे अलग,
फिर भी सबके जैसा.
रूप, रंग सबसे अलग,
स्वाभाव न एक जैसा.
फिर भी एक सी छाया,
तुने कैसे बनायीं काया.

जन्म की दी तुने ताकत,
साँसों को एक तार किया,
पर मृत्यु का न अधिकार दिया.
कैसा ये षड़यंत्र रचा,
कैसा ये खेल खिलाया.
ये कैसी है तेरी माया,
तुने कैसे बनायीं काया.

सुख दिया, दुःख दिया,
जाहिर करने का मार्ग दिया.
अंतहीन अंधेरो में जो
दिख जाए वो प्रकाश दिया.
इस जटिल गुत्थी को तुने
दो भागो में बाँट दिया,
जो समझ गया वो जीत गया,
जो ना समझा वो हार गया.
ये कैसी है तेरी माया,
तुने कैसे बनायीं काया.

Friday, October 5, 2012

मैं कौन हूँ, मैं क्या हूँ.........



मैं कौन हूँ, मैं क्या हूँ,
अपने अस्तित्व से परेशान हूँ.
मैं खुश हूँ, मैं उदास हूँ,
अपने जज्बातों से परेशान हूँ.

तू मुझे बार बार सिखाती है ज़िन्दगी,
तू मुझे बार बार रुलाती है ज़िन्दगी,
मैं अपने हालातों के कश्मकश से परेशान हूँ.

मुकम्मल नहीं लगता मुझे अब कभी ये हो पायेगा,
मैंने जो खो दिया वो कभी लौट आएगा,
मैं इस पाने खोने की जद्दोजहद से परेशान हूँ.

सजदे किये मैंने लाखों बार,
दुआएँ की एक मरासिम को बचाने के लिए,
मैं इस मरासिम के बार बार बचने से परेशान हूँ.

मेरे हालात मेरे रकीब वहीँ हैं,
दिल को चुभने वाले अलफ़ाज़ वहीँ हैं,
नहीं बदला कुछ भी, बिखर गया है सब कुछ फिर भी,
मैं इस बिखरे हुए ख़त के पुरजो से परेशान हूँ........